Intezaar Shayari

Spread the love

Advertisement Section

1. Aankhon Ke Intezaar Ka De Kar Hunar Chala Gaya,
Chaha Tha Ek Shakhs Ko Jaane Kidhar Chala Gaya,
Din Ki Woh Mehfilein Gayin Raaton Ke RatJage Gaye,
Koi Samet Kar Mere Shaam-o-Sahar Chala Gaya.

2. Mere Dil Ki Ummidon Ka Hausla To Dekho,
Intezaar Uska Hai Jise Mera Ehsaas Tak Nahi.

3. जान देने का कहा मैंने तो हँसकर बोले, तुम सलामत रहो हर रोज के मरने वाले,
आखिरी वक़्त भी पूरा न किया वादा-ए-वस्ल, आप आते ही रहे मर गये मरने वाले।

 

4. Raat Bhar Jagte Rehne Ka Sila Hai Shayad,
Teri Tasveer Si Mahtaab Mein Aa Jati Hai.

5. Tamaam Raat Mere Ghar Ka Ek Dar Khula Raha,
Main Raah Dekhta Raha Woh Rasta Badal Gaya.

6. पलकों पर रूका है समन्दर खुमार का, कितना अजब नशा है तेरे इंतजार का।

7. Aadatan Tumne Kar Diye Vaade, Aadatan Humne Bhi Aitbar Kiya,
Teri Rahon Mein Har Baar Ruk Kar, Humne Apna Hi Intezaar Kiya.

8. Ab Teri Mohabbat Pe Mera Haq To Nahi Sanam,
Phir Bhi Aakhiri Saans Tak Tera Intezaar Karenge.

9. Aap Kareeb Hi Na Aaye Izhaar Kya Karte, Hum Khud Bane Nishana To Shikaar Kya Karte, Saanse Saath Chhod Gayi Par Khuli Rakhi Aankhein, Iss Se Jyada Kisi Ka Intezaar Kya Karte.

10. Tadap Ke Dekh Kisi Ki Chahat Mein, Toh Pata Chale Ke Intezar Kya Hota Hai,
Yun Mil Jaaye Agar Koi Bina Tadap Ke, Toh Kaise Pata Chale Ke Pyar Kya Hota Hai?

11. कभी ख़ुशी से ख़ुशी की तरफ नहीं देखा, तुम्हारे बाद किसी की तरफ नहीं देखा,
ये सोच कर के तेरा इंतजार लाजिम है, तमाम उम्र घडी की तरफ नहीं देखा।

12. Aankhein Bhi Meri Palko Se Sawal Kerti Hain, Har Waqt Aapko Hi Bas Yaad Karti Hain, Jab Tak Na Kar Lein Deedar Aapka, Tab Tak Woh Aapka Intezar Karti Hain.

13. ग़जब किया तेरे वादे पर ऐतबार किया, तमाम रात किया क़यामत का इंतज़ार किया।

14. आँखों ने जर्रे-जर्रे पर सजदे लुटाये हैं, क्या जाने जा छुपा मेरा पर्दानशीं कहाँ।

 

15. देर लगी आने में तुमको, शुक्र है फिर भी आये तो,
आस ने दिल का साथ न छोड़ा, वैसे हम घबराये तो।

16. ये इंतज़ार सहर का था या तुम्हारा था, दिया जलाया भी मैंने दिया बुझाया भी।

17. दिल जलाओ या दिए आँखों के दरवाज़े पर, वक़्त से पहले तो आते नहीं आने वाले।

18. शब-ए-इंतज़ार की कशमकश में न पूछ कैसे सहर हुई,
कभी एक चिराग जला दिया कभी एक चिराग बुझा दिया।

19. कासिद पयामे-शौक को देना बहुत न तूल, कहना फ़क़त ये उनसे कि आँखें तरस गयीं।

20. उदास आँखों में अपने करार देखा है, पहली बार उसे बेक़रार देखा है,
जिसे खबर ना होती थी मेरे आने जाने की, उसकी आँखों में अब इंतज़ार देखा है।