Dard Bhari Shayari

Spread the love

Advertisement Section

1. Dil Ki Dahleez Par Rakh Kar Teri Yaadon Ke Chiraag
Humne Duniyan Ko Mohabbat Ke Ujaale Bakhshey

 

2. Aa Bichadne Ka Koi Aur Tareeqa Dhoodhen
Pyyar Badhta Hai Meri Jaaan Khafa Rahne Se

 

3. Main Chahta Hun Aik Aasiyana Ho
Jo Wabasta Sirf Tum Se Ho

4.  Kaise Ek Laphz Mein Bayaan Kar Doon
Dil Ko Kis Baat Ne Udaas Kiya

5. Hamen Taameer Ke Dhokhe Mein Rakhakar
Hamaare Khvaab Chunavaaye Gae Hain 🙁

6. Ab Ye Hasarat Hai Ki Seene Se Lagaakar Tujhako
Is Qadar Rooon Kee Aansoo Aa Jaaye

7. Jis Jagah Jaakar Koee Vaapas Nahin Aata
Jaane Kyon Aaj Vahaan Jaane Ko Jee Chaahata Hai

8. Karni Hai Khuda Se Ek Guzarish
Teri Dosti Ke Siva Koi Bandgi Na Mile.

9. Tumse Hi Rooth Kar Tumhi Ko Yaad Karte Hain
Hame To Theek Se Naraz Hona Bhi Nahi Ata

10. Tumko Dekhun To Mujhe Pyar Bahot Ata Hai
Zindagi Itni Haseen Pahle To Nahi Lagti Thi

 

Dard Bhari Shayari For Girl Friend

1. फेर लेते हैं नज़र, दिल से भुला देते हैं,

क्या यूँ ही लोग वाफ़ाओं का सिला देते हैं,

वादा किया था फिर भी ना आए मज़ार पर,

हमने तो जान दी थी इसी ऐतबार पर!!

2. मिलने का वादा कर गयी थी,

वापस लौट आउंगी ये कहकर गयी थी,

आई है अब वो जनाज़े पे मेरे,

वादा वो अपना निभाने चली थी!!

3. एक बार ही जी भर क सज़ा क्यो नही देते?

में हरफ़-ए-ग़लत हूँ तो मिटा क्यो नही देते?

मोती हूँ तो दामन में पिरो लो मुझे अपने,

आँसू हूँ तो पलकों से गिरा क्यूँ नही देते?

साया हूँ तो साथ ना रखने की वजह क्या?

पत्थर हूँ तो रास्ते से हटा क्यूँ नही देते?

4. इस तरह मिली वो मुझे सालों के बाद,

जैसे हक़ीक़त मिली हो ख़यालों के बाद,

मैं पूछता रहा उस से ख़तायें अपनी,

वो बहुत रोई मेरे सवालों के बाद!!

5. यू तो खामोश ही रहती है आँखे,

अगर समझ सको तो बहुत कुछ कहती है आँखे,

कौन कहता है की रोती है आँखे,

रोता तो दिल है,

मगर उसे भी कह देती है आँखे!!

6. उनके होंठो पे मेरा नाम जब आया होगा,

खुदको रुसवाई से फिर कैसे बचाया होगा,

सुनके फसाना औरो से मेरी बर्बादी का,

क्या उनको अपना सितम ना याद आया होगा!!

7. दिल मे ना हो ज़रूरत तो मोहब्बत नही मिलती,

खैरात मे इतनी बड़ी दौलत नही मिलती,

कुछ लोग यूँ ही शहर मे हम से भी खफा हैं,

हर एक से अपनी भी तबीयत नही मिलती,

देखा था जिसे मैने कोई और था शायद,

वो कौन है जिस से तेरी सूरत नही मिलती,

हंसते हुए चेहरो से है बाज़ार की ज़न्नत,

रोने को यहा वैसे भी फ़ुर्सत नही मिलती!!

 

8. अब भी ताज़ा है ज़ख़्म सीने में,

बिन तेरे क्या रखा है जीने में,

हम तो ज़िंदा हैं तेरा साथ पाने को,

वरना देर कितनी लगती है ज़हर पीने में!!

9. आँखों मे किसी सपने ने आना छोड़ दिया,

होठो पर अब हंसी ने भी आना छोड़ दिया,

अब तो हिचकियाँ भी नही आती,

शायद आपने याद करना ही छोड़ दिया!!

 

10. बेनाम सा यह दर्द ठहर क्यों नही जाता,

जो बीत गया है वो गुज़र क्यों नही जाता,

वो एक ही चेहरा तो नही सारे जहाँ मैं,

जो दूर है वो दिल से उतर क्यों नही जाता!!

 

Dard Bhari Shayari For Wife

1. Masla Ye Nahi Ki Mera Dard Kitna Hai,
Mudda Ye Hai Ki, Tumhe Parwah Kitni Hai

 

2. Aur Bhi Kar Deta Hai Dard Main Izafa,
Tery Hoty Huay Ghairo’N Ka Dilasa Dena .

 

 

3. Us Ne Mere Zhakhmo Ka U Kiya Ilaj
Marham Bhi Lagaya To Kaanto Ki Nok Se

 

4. Bari Tabdeeliyaan Laai Hain Apne Aap Main Likin
Tumhain Bas Yaad Krne Ki Wo Adat Ab Bhi Baqi Hai

 

5. Ache Lage Tum So Hum Ne Bata Diya
Nuqsan Yeh Hua K Tum Maghroor Hogay.

 

6. Baithe The Apni Masti Mein, Ke Achaanak Tadap Utthe
Aa Ke Tere Khayaal Ne Accha Nahi Kiya

 

7. Sadiyon Se Jaagi Aankhon Ko Ek Baar Sulane Aa Jao;
Mana Ki Tumko Pyar Nahi, Nafrat hi Jatane Aa Jao;
Jis Mod Pe Humko Chhod Gaye, hum Baithe Ab Tak Soch Rahe;
Kya Bhool Hui Kyon Juda Hue, Bas Yeh Samjhane Aa Jao.

 

 

8. Koi manzil nahi jachati safar accha nai lagta
Agar ghar laut bhi aau to ghar accha nahi lagta
Karu kuch bhi me ab duniya ko sab accha hi lagta hai
Mujhe kuch bhi tumhare bin magar accha nahi lagta

 

9. Sard mausam ka maza kitna alag sa hai,
Tanha raat mein intazaar kitna alag sa hain,
Dhund bani naqab, aur chupa lia sitaron ko,
Unki tanhaai ka ab ehsas kitna alag sa hai

 

 

10. Tumhari yaad or baraf-bari ka mausam,
sulagta raha dil ke andar akeley,
Irada tha jee loon ga tujh se bichar ke,
Magar guzarta nahi ab December akeley..